शनिवार, 26 नवंबर 2011

परिहास

कृपया पढ़ने के लिए चित्र पर क्लिक करें। चित्र के पूरा आने पर उसे ज़ूम करने के लिए एक बार और क्लिक करें।

4 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत अच्छी रचना लेकिन आपने जो अंत मेन संदेश दिया मुझे वो बहुत अच्छा लगा आभार ... की आपने परिहास के साथ महान ग्रन्थों का भी मान रखा... समय मिले कभी तो आयेगा मृ पोस्ट पर आपका स्वागत है http://mhare-anubhav.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  2. सुनील जी, पल्लवी जी एवं मानव भाई.... आप तीनों का मेरा उत्साहवर्धन करने के लिए हार्दिक आभार...

    उत्तर देंहटाएं