शनिवार, 18 जून 2011

घर या राजनीति का अखाड़ा


कृपया पढ़ने के लिए चित्र पर क्लिक करें। चित्र के पूरा आने पर उसे ज़ूम करने के लिए एक बार और क्लिक करें। इस छंद की अंतिम पंक्ति के रूप में विषय देने के लिए भाई नवीन चतुर्वेदी जी जिनका ब्लॉग है http://samasyapoorti.blogspot.com/ का हार्दिक आभार.

1 टिप्पणी:

  1. वह जोशी जी ...
    सबके घर की यही कहानी
    आज सुनी फिर आप की जुबानी

    उत्तर देंहटाएं