शुक्रवार, 17 सितंबर 2010

मेरा प्रस्ताव

3 टिप्‍पणियां:

  1. साधे शब्दों में बहुत सुन्दर रचना , ...!!!पढ़ कर आनंद आ गया .....

    शब्दों के इस सुहाने सफ़र में आज से मैं भी आपके साथ हूँ , इस उम्मीद से की सफ़र शायद दोनों के लिए कुछ आसान हो .....मिलते रहेंगे

    अथाह...


    !!!

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत-बहुत धन्यवाद राजेन्द्र भाई

    उत्तर देंहटाएं
  3. हा हा हा ! बहुत बढ़िया....मगर लगता है आप तो पहले ही शादी शुदा हैं.....फिर किसका हाथ मांग रहें हैं?

    उत्तर देंहटाएं