मंगलवार, 9 अक्तूबर 2012

भले कोई उमर हो सब

कृपया पढ़ने के लिए चित्र पर क्लिक करें। चित्र के पूरा आने पर उसे ज़ूम करने के लिए एक बार और क्लिक करें। मेरी बाकी रचनाओं का आनंद आप http://www.facebook.com/MeriRachnayen?ref=tn_tnmn पर ले सकते हैं।

3 टिप्‍पणियां:


  1. अभी भी सच में, उनका मुस्कुराना याद है हमको,
    जहाँ छुप छुप के मिलते थे, ठिकाना याद है हमको,
    जीवन के वक्त-ऐ-दरिया में, सच में, एक एक करके,
    यादों को सलीके से, बहाना, याद है हमको,
    तुमने बात छेड़ी है, तो हम भी क्यों रहें पीछे,
    मोहब्बत तो मोहब्बत है, निभाना याद है हमको.

    SHAM SUNDER KUMAR
    kumarshamsunder@gmail.com

    उत्तर देंहटाएं