मंगलवार, 20 मार्च 2012

मेरी चाह

कृपया पढ़ने के लिए चित्र पर क्लिक करें। चित्र के पूरा आने पर उसे ज़ूम करने के लिए एक बार और क्लिक करें। मेरी बाकी रचनाओं का आनंद आप http://www.facebook.com/MeriRachnayen?ref=tn_tnmn पर ले सकते हैं।

5 टिप्‍पणियां:

  1. उत्तर
    1. आपका अतिश: धन्यवाद सरिता जी.... इसमें मेरी ज़िंदगी की सच्चाई छिपी है.... देरी से प्रत्युत्तर के लिए क्षमाप्रार्थी हूँ..

      हटाएं
  2. गहन भाव लिए भावपूर्ण अभिव्यक्ति समय मिले कभी तो आयेगा मेरी पोस्ट पर आपका स्वागत है http://mhare-anubhav.blogspot.co.uk/

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. बहुत बहुत आभार आपका मेरी रचना को पसंद करने के लिए पल्लवी जी.... आपका ब्लॉग मैंने ज्वाइन कर लिया है.... अब तो टिप्पणियों का आदान प्रदान होता रहेगा...

      हटाएं