रविवार, 6 फ़रवरी 2011

प्यार की इंतहा


कृपया पढ़ने के लिए चित्र पर क्लिक करें। चित्र के पूरा आने पर उसे ज़ूम करने के लिए एक बार और क्लिक करें।

2 टिप्‍पणियां:

  1. आप की रचनाओं में मे अक्सर ही हल्का फुल्का मनोरंजन पता हूँ..

    जरी रखें..

    उत्तर देंहटाएं
  2. प्रोत्साहन के लिए हार्दिक धन्यवाद आपका आशुतोष जी..

    उत्तर देंहटाएं